आओ कुछ बातें करते हैं



आओ   कुछ    बातें    करते   हैं   

 

आज   आखिरी    दिन    है        साल    का,

   कल    से    तारीख़े    भी    बदल    जायेंगी।

 

आओ    कुछ    देर    बैठते   हैं ,   बातें    करते    हैं,   

माना    कि    बहुत    दिन    से    कुछ  बात    नहीं    की    हमने,

मगर    कुछ    देर    बात    कर    लेने    से    कुछ    बिगड़    तो        जायेगा।   

 

शायद    कुछ    ग़लतफ़हमियाँ    थी    हमारे    बींच,

या    शायद    कुछ    गलतियाँ    अनजाने    में    हो    गयी    होंगी।   

 

आओआज    इस    आखिरी    दिन    को    थोड़ा    सा    हिसाब    कर    लेते    हैं ,   

दोनों    मिल    के,    एक    दूसरे    से,    एक    दूसरे    की    जी    भर    के    शिकायतें    लेते    हैं,

चीख़    लेते    हैं,    चिल्ला    लेते    हैं,    ज़रूरत    हो    तो    दो    चार    गालियाँ    भी    दे    देते    हैं,

 

मगर    जो    भी    आज    सब    हिसाब    कर    लेते    हैं।   

 

आज    अपने    दिलों    में    बसी    नफ़रतों    की    यहीं    कब्र    बना    देते    हैं,

या    गर    मंजूर    हो    तो    यहीं    चिता    जला    देते    हैं,

आज    इस    मंदिर-मस्जिद    के    मुद्दे    को    हमेशा    के    लिए    यहीं    दफ़न    कर    देते    हैं।   

 

कल    सुबह    में    मैं    अजान    दे    देता    हूँ,    तुम    भोर    में    मंत्रों    के    साथ    शंखनाद    कर    देना।   

 

आओ,    हम    दोनों    अब    साथ    मिल    के    लड़ा    करेंगे,

अब    हम    अपने    वतन    के    लिए    लड़ा    करेंगे,

 

आओ,    हम    अब    अपनी    मोहब्बत    के    लिए    लड़ा    करेंगे,   

अब    हम    अपनों    के    सुकून    के    लिए    लड़ा    करेंगे,

 

और    कसम    खाते    हैं    की    हम    अब    आपस    में        लड़ा    करेंगे।   

 

आओ    कुछ    देर    बैठते    हैं,   

आओ    कुछ    बातें    करते    हैं।

 

-समीर   "इंक़लाबी"




Comments